Govt. Rani Avantibai Lodi College, Ghumka

15 अगस्त 1989 को राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) जिले के ग्रामीण अंचल में उच्च शिक्षा का पदार्पण शासकीय महाविद्यालय के रूप में हुआ । राजनांदगांव से लगभग 30 कि.मी. दूर ‘‘गौरव ग्राम’’ से सम्मानित घुमका में इस महाविद्यालय की स्थापना हुई । प्रारंभ में शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला के 2 कमरों में यह महाविद्यालय प्रारंभ हुआ । संस्कारधानी के शिक्षाविद् एवं हिन्दी साहित्य के वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. गणेश खरे ने स्थापना काल के प्राचार्य का दायित्व संभाला ।

शासन ने हरडुवा मार्ग पर महाविद्यालय के लिए 15.89 एकड़ जमीन आबंटित की जहाँ विशाल भवन का निर्माण हुआ । 2007 में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री माननीय डॉ. रमन सिंह जी ने महाविद्यालय भवन का लोकार्पण किया । कला एवं वाणिज्य संकाय के साथ प्रारंभ हुआ । यह महाविद्यालय अपनी स्थापना के 25वें वर्श में प्रवेश कर रहा है ।

Latest News

 
 

Principal Message

शासकीय रानी अवंती बाई लोधी महाविद्यालय, घुमका, जिला-राजनांदगांव (छ.ग.) की स्थापना 15 अगस्त 1989 में हुई। तब से यह महाविद्यालय उत्तरोत्तर विकास की ओर अग्रसर है। सत्र 2013-14 में यह महाविद्यालय 25 वर्ष की अपनी लम्बी यात्रा पूरा करने के पश्चात् रजत जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाया। ग्रामीण अंचल में संचालित यह महाविद्यालय, ग्रामीण क्षेत्र के छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा प्रदान करने में अहम् भूमिका निभारही है। उच्च शिक्षा के माध्यम से अंचल के युवाओं का समग्र विकास करना, ग्रामीण युवाओ के व्यक्तित्व विकास विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराना, नैतिक परामर्श एवं कार्यशाला आयोजन के माध्यम से बहुमुखीय शिक्षा प्रदान करना, अकादमिक उत्कृष्टता एवं एकल प्रदर्शन पहचान कराना, छात्र-छात्राओं को स्वरोजगार की ओर अग्रसर करना, खेलकूद के माध्यम से शारीरिक, मानसिक एवं नैतिक उत्थान कर राष्ट्रीय चरित्र निर्माण की दिशा में उन्नमुख करना तथा वर्तमान नवाचार से छात्र-छात्राओं को अवगत कराना महाविद्यालय का मुख्य उदेश्य रहा है।

सूचना क्रांति के इस दौर में नवीन सूचना तकनीकियो एवं पद्धातियों का ज्ञान यथा कैशलेश ट्रांजेक्शन ए.टी.एम., पे. टी. एम. इन्टरनेट बैंकिग जैसे पद्धातियों से छात्र-छात्राओं को अवगत कराने की दिशा में विशेष उपलब्धि हासिल की है। “नवा छत्तीसगढ़ 2025' का विजन उच्च शिक्षा में विस्तारी करण समरूप पहल रोजगारोन्मुखी, पारदर्शिता एवं गुणवत्तायुक्त नये आयामों को स्थापित एवं संचालित करने के प्रति महाविद्यालय प्रतिबद्ध है। निश्चय ही इस लक्ष्य को प्राप्त करने में कामयाबी मिलेगी। ग्रामीण अंचल के इस महाविद्यालय में अन्य विशयों में स्नातकोत्तर की कक्षाएं प्रारम्भ किया जाना बहुत ही आवश्यक और प्रासंगिक है, इसलिए कि स्नातकोत्तर की पढ़ाई करने के लिए गरीब बच्चों को बाहर के उच्च शिक्षा संस्थानों में जाना न पड़े। सत्र 2017-18 में महाविद्यालय का परीक्षा परिणाम बहुत ही सहरानीय रहा है।

डॉ. आई. आर. सोनवानी
प्राचार्य

00

EXPERT FACULTIES

00

OUR COURSES

00

HAPPY STUDENTS

00

EXCELLENCE YEARS

Our Team

डॉ. आई. आर. सोनवानी
डॉ. आई. आर. सोनवानी
Administration
Principal
डॉ. बी. के. देवांगन
डॉ. बी. के. देवांगन
Sociology
सहायक प्राध्यापक, HOD
. प्रो. एस.एन. कामड़ी
. प्रो. एस.एन. कामड़ी
Zoology
सहायक प्राध्यापक, HOD
डॉ. सत्यदेव त्रिपाठी
डॉ. सत्यदेव त्रिपाठी
Commerce
सहायक प्राध्यापक, HOD
डॉ. के. डी. देशलहरा
डॉ. के. डी. देशलहरा
Hindi
सहायक प्राध्यापक, HOD
डॉ. रोहन प्रसाद
डॉ. रोहन प्रसाद
Economics
सहायक प्राध्यापक, HoD
प्रो. श्रीमती प्रीति खुरसैल
प्रो. श्रीमती प्रीति खुरसैल
Chemistry
सहायक प्राध्यापक, HOD