History Department

शासकीय रानी अवंती बाई लोधी महाविद्यालय, घुमका, जिला-राजनांदगांव (छ.ग.) की स्थापना 15 अगस्त 1989 को हुई थी। तब से यह महाविद्यालय प्रगतिशील विकास की ओर अग्रसर है। सत्र 2013-14 में महाविद्यालय ने अपनी 25 वर्ष की लंबी यात्रा पूरी कर रजत जयंती धूमधाम से मनाई। ग्रामीण अंचल क्षेत्रों में संचालित यह महाविद्यालय ग्रामीण क्षेत्रों के छात्र/छात्राओं को उच्च शिक्षा प्रदान करनें में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। महाविद्यालय के प्रारम्भ से ही स्नातक स्तर पर इतिहास विषय पर अध्यापन कार्य होता रहा है, सत्र 1989-90 से 2020-21 तक विधाथीओं की संख्या में निरन्तर वृद्धि हो रहा है। सत्र 2020-21 में बी,ए, प्रथम, द्वितीय, तृतीय वर्ष के कुल छात्र/छात्राओं की संख्या 130 थे। सत्र के दौरान शैक्षाणिक गतिविधियों के साथ-साथ इतिहास विभाग में तत्वधान में अनेक महापुरूषों की जंयती मनाई गई। जिसमें 23 जनवरी नेताजी सुभाष चंद बोस, 08 अगस्त क्रांति दिवस, 02 अक्टूबर गांधी जंयती, 31 अक्टूबर राष्ट्रीय एकता दिवस, 18 दिसम्बर गुरू घासीदास जंयती आदि।

पिछले साल इतिहास विषय के छात्र/छात्राओं का वार्षिक परीक्षा परिणाम बहुत अच्छा रहा था। इस महाविद्यालय में इतिहास विषय के छात्र/छात्राओं की मनसा है कि महाविद्यालय में स्नात्तकोत्त की कक्षाए प्रारम्भ हो ताकि ग्रामीण अंचल के विधाथीओं को महाविद्यालय में ही स्नात्तकोत्त की पढाई जारी रख सके व इतिहास जैसे विषय में उच्च शिक्षा ग्रहण करने में सुविधा हो। महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आई. आर. सोनवानी सर का समय-समय पर इतिहास विषय का छात्र/छात्राओं व मुझे विशेष मार्गदर्शन मिलता रहा। मै भविष्य में भी महाविद्यालय के विकास और अच्छे परिणामों की कामना करता हूँ और पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी महाविद्यालय के विकास के लिए कार्य करता रहूँगा।

                                                                                                                                                                                                                                                                        

                                                                                                                                                                                     रितेश कुमार बंजारे

                                                                                                                                                                                                                     अतिथि व्याख्याता-इतिहास